• निफ्टी आज 81.85 अंक बढ़कर 17,803.35 पर पहुंचा
  • सेंसेक्स आज 253.99 अंक बढ़कर 60,549.39 पर पहुंचा
  • यमुनानगर के महावीर चौक स्थित पीएनबी बाहर भगवानगढ़ के किसानों ने लगाया टेंट, खाते से काटे रूपये वापस नहीं करने तक बैंक पर लगाएंगे ताला
  • यमुनानगर में कई जगहों पर सरकारी डिपोमे आटा बांटने वाली मशीन का नेटवर्क दे रहा धोखा, लोगों को हो रही परेशानी
  • यमुनानगर के मंडेबरी में तीन विवाह के बाद महिला ने बिना तलाक दिए रचाई चौथी शादी, थाने में मामला दर्ज
  • तुर्की-सीरिया में मरने वालों तादात 8 हजार के हुई पार, 3 माह के बाद लगी एमरजेंसी
  • UP में सभी IAS, IPS, PCS अफसरों की छुट्टियाँ रद्द
  • शहबाज ने पाकिस्तानी अवाम पर फोड़ा 180 अरब का टैक्स बम
  • राहुल गांधी और लोकसभा अध्यक्ष बिरला के बीच सदन में हुई बहस और वो भी माइक बंद करने को लेकर

Jag Khabar

Khabar Har Pal Kee

सिक्किम

प्राकृतिक सुंदरता, संस्कृति और इतिहास से परिपूर्ण है सिक्किम (Sikkim) की मंत्रमुग्ध करने वाली जगहें

Enchanting Places of Sikkim full of Natural Beauty, Culture and History

सिक्किम (Sikkim), भारत के उत्तर-पूर्वी भाग में स्थित यह राज्य किसी स्वर्ग से कम नहीं। यह राज्य सुंदर पर्वतीय राज्यों में गिना जाता है। इस राज्य में हिमालय के सुंदर चुंबकीय दृश्य, आकर्षक बर्फ और आसमान छूते हिमालय, घास के मैदान इत्यादि देखने को मिलेंगे।

सिक्किम, पश्चिम में नेपाल, उत्तर तथा पूर्व में चीनी तिब्बत स्वायत्त क्षेत्र तथा दक्षिण-पूर्व में भूटान से घिरा हुआ है। यहां पर हिन्दू तथा बज्रयान बौद्ध धर्म प्रमुख हैं। सिक्किम का विलय भारत में 1975 में हुआ था। यहां पर अंग्रेजी, गोर्खा खस भाषा, लेप्चा, भूटिया, लिम्बू तथा हिंदी आधिकारिक भाषाएँ बोली जाती हैं।

त्सोंगमो झील (Tsomgo Lake)

झील

सिक्किम में सबसे अधिक देखी जाने वाली झील पूर्वी सिक्किम में त्सोंगमो झील (Tsomgo Lake) है। इस झील को चंगू झील के नाम से भी जाना जाता है। यह गंगटोक से लगभग 40 किमी दूर नाथुला पास के रास्ते में स्थित है तथा समुद्र तल से लगभग 12,000 फीट की ऊंचाई पर स्थित है। यह झील चारों तरफ से हरे-भरे परिदृश्यों से घिरी हुई है। त्सोंगमो झील का तापमान वर्ष में अलग-अलग मौसम में -15oC से 22oC तक भिन्न होता है।

खड़ी और ऊबड़-खाबड़ पहाड़ी इलाकों में स्थित त्सोंगमो झील शुरुआती सर्दियों से वसंत तक बर्फ से ढकी रहती है। ये सिक्किम में सबसे अधिक देखे जाने वाले मॉनसून स्थलों में से एक है। सर्दियों में इस झील की सतह जम जाती है। यह शांत वातावरण के साथ-साथ अंडाकार आकृति की ये झील लगभग 50 फीट की औसत गहराई के साथ लगभग एक किमी लंबी है।

लाचुंग (Lachung)

सिक्किम जिले के छोटे से गांव लाचुंग (Lachung) को अपनी खूबसूरती और प्राकृतिक वातावरण के लिए पूरे भारत वर्ष में जाना जाता है। यह राज्य की राजधानी गंगटोक (Gangtok) से 120 किमी की दूरी पर है। यह गांव लाचुंग नदी और लाचेन नदी के संगमस्थल पर बसा हुआ है, जो तीस्ता नदी की उपनदियाँ हैं।

लाचुंग, बर्फ से ढकी पर्वत चोटियों, लुभावने झरनों, जगमगाती धाराओं और सेब के बागों, आड़ू और खुबानी से घिरा हुआ है और प्राकृतिक सुंदरता, अल्पाइन चरागाहों, झीलों और घाटियों की मंत्रमुग्ध करने वाली सुंदरता और लकड़ी के घरों को प्रकट करने के लिए सबसे अच्छी जगह है। उत्तरी सिक्किम स्थलों के लिए आयोजित पर्यटन आम तौर पर लाचुंग से शुरू होते हैं।

युमथांग घाटी (Yumthang Valley)

घाटी

युमथांग घाटी (Yumthang Valley), सिक्किम के उत्तरी भाग में स्थित यह घाटी प्राकृतिक रूप से कई सुंदर हिमालयी फूलों का घर है साथ ही, यह गर्म झरनों, नदियों, याक और हरे-भरे घास के मैदानों के साथ एक दुर्लभ और आकर्षक स्थान भी है। तिब्बत के करीब 11800 फीट (3564 मीटर) की ऊंचाई पर स्थित, यह घाटी एक अनोखी जगह है, जहां वृक्ष रेखा समाप्त हो जाती है।

घाटी में कई गर्म झरने बिखरे हुए हैं, जो ठंड के तापमान में भी पानी की गर्मी को महसूस करने का एक अप्रत्याशित अवसर प्रदान करते हैं इतना ही नहीं, यह वनस्पतियों और जीवों के आकर्षक मिश्रण और लुभावनी प्राकृतिक सुंदरता के साथ प्रकृति प्रेमियों के लिए स्वर्ग माना जाता है।

गुरुडोंगमार झील (Gurudongmar Lake)

झील

गुरुडोंगमार झील, उत्तरी सिक्किम में तिब्बत सीमा के करीब 5425 मीटर की ऊंचाई पर स्थित एक बहुत ही खूबसूरत झील है। यह दुनिया की सबसे ऊंची झीलों में से एक है। यह झील बर्फ़ीली अल्पाइन झील तीस्ता नदी के प्रमुख स्रोतों में से एक है। इस झील को सिक्किम का एक महत्वपूर्ण पर्यटक आकर्षण कहा जाता है। इस झील के रास्ते का इलाका काफी उबड़-खाबड़ है, जो यहां के प्राकृतिक आनंद तथा दृश्य को बढ़ावा देते हैं।

क्रिस्टल क्लियर गुरुडोंगमार एक शानदार झील है, जो चारों ओर से घिरे हुए बर्फ के पहाड़ों को प्रतिबिंबित करती है। यह सिक्किम और तिब्बत के याक, नीले जहाजों और अन्य उच्च ऊंचाई वाले जानवरों की भूमि भी है। बताया जाता है कि इस झील का निर्माण ग्लेशियरों से बर्फ के पिघले पानी से हुआ है। इस पवित्र झील के बारे में आश्चर्यजनक तथ्य यह भी है कि अत्यधिक सर्दियों में भी इस झील का एक हिस्सा कभी नहीं जमता।

नाथुला दर्रा (Nathula Pass)

दर्रा

नाथुला दर्रा, भारत में स्थित हिमालय का एक बहुत ही खूबसूरत और मशहूर पहाड़ी दर्रा है, जोकि सिक्किम को दक्षिण तिब्बत में चुम्बी घाटी से जोड़ता है। समुद्र तल से 14450 फीट ऊपर भारत-तिब्बत सीमा पर स्थित नाथू ला देश के सबसे महत्वपूर्ण हिमालयी दर्रों में से एक है। यह पहाड़ी दर्रा तिब्बत और भारत को जोड़ने वाली सबसे पुरानी व्यापारिक सीमा चौकियों में से भी एक है। यह दर्रा सिक्किम की राजधानी गंगटोक से 56 किलोमीटर दूर स्थित है, जिस बीच सोंगमो झील भी पड़ती है। इतिहास के अनुसार 1962 के भारत-चीन युद्ध के दौरान, नाथुला दर्रा दोनों देशों के बीच भारी लड़ाई का गवाह बन गया था।

नामची (Namchi)

नामची, सिक्किम राज्य के दक्षिण सिक्किम ज़िले में स्थित तीर्थस्थलों किए लिए जाना जाने वाला एक बहुत ही प्रसिद्ध शहर है। यह शहर प्राकृतिक चमत्कार, जैव-विविधता रंगीत घाटी इत्यादि के लिए पूरे भारत में जाना जाता है। यह शहर सिक्किम की राजधानी गंगटोक 92 किलोमीटर दूर स्थित है और समुद्र तल से करीब 1675 मीटर ऊंचाई पर स्थित है।

नामची शहर में ज्यादातर हिन्दू और बौद्ध धर्म को मानने वाले लोग रहते है और यहां पर हिंदी, अंग्रेजी और नेपाली भाषा अधिक बोली जाती है। नामची शहर के प्रसिद्ध होने की एक वजह यहां मौजूद चारधाम भी है। इस शहर में भारत के चारों कोनों में स्थित चार धाम, जैसे रामेश्वरम, सोमनाथ, पुरी और बद्रीनाथ और पूरे भारतखंड में स्थित 12 ज्योतिर्लिंग हैं, जोकि यहां की सबसे बड़ी पहचान के रूप में जाने जाते है। यहां का सिद्धेश्वर धाम भगवान शिव की विशाल मूर्ति के लिए बहुत प्रसिद्ध है और किरतेश्वर की मूर्ति भगवान शिव का स्थानीय अवतार माना जाता हैं।

पेलिंग (Pelling)

सिक्किम के पश्चिमी जिले में स्थित पेलिंग बहुत ही खूबसूरत शहर है। यह 6800 फीट की ऊंचाई पर बसा हुआ है। यह शहर कंचनजंगा चोटी और हिमालय के लुभावने दृश्यों के लिए सबसे लोकप्रिय है। कंचनजंगा जलप्रपात, रिम्बी जलप्रपात, चांगे जलप्रपात, रॉक गार्डन, सिनसोर ब्रिज, खेचीपेलरी झील, पेम्यंगसे मठ और रबदांत्से खंडहर जैसे आश्चर्यजनक स्थान पेलिंग शहर के करीब ही स्थित हैं, जोकि आपकी यात्रा को मनमोहक और यादगार बना देगी।

.