• आज निफ्टी 123.20 अंक बढ़कर 17,822.00 पर पहुँचा
  • आज सैंसेक्स 418.73 अंक बढ़कर 59,881.51 पर पहुँचा
  • बिहार में नीतीश कैबिनेट का विस्तार, दिल्ली में अचानक हुई बीजेपी कोर कमेटी की बैठक
  • रिट्रीट देखने पहुंचे 50 हजार श्रद्धालु, 'हिंदुस्तान जिंदाबाद' और वंदे मातरम के नारों से गूंजी सीमा

Jag Khabar

Khabar Har Pal Kee

भारतीय-गेहूं

पहले तुर्की और अब मिस्र ने भी भारतीय गेहूं खरीदने से किया इंकार

First Turkey and Now Egypt also Refused to Buy Indian Wheat

भारत के गेहूं निर्यात मामले में एक नया मोड़ आ गया है, पहले भारत ने तुर्की (Turkey) में 17 लाख टन गेंहू (Wheat) का निर्यात किया था परन्तु तुर्की ने ‘सड़ा’ बताकर वापिस लोटा दिया था। उनका कहना था कि भारतीय गेहूं रूबेला वायरस पाया गया है, इसलिए उन्होंने इस खेप को लेने से मना कर दिया था।

यह गेहूं की खेप भारतीय कंपनी आईटीसी लिमिटेड (ITC Limited) ने नीदरलैंड में स्थित एक कंपनी को बेची और वहां से तुर्की पहुंचाई गई।

कुछ समय के पश्चात इस खेप को मिस्र (Egypt) के किसी व्यापारी खरीद लिया था और गेहूं लेकर जहाज के द्वारा अफ्रीकी देश की ओर चल दिया, परन्तु अब मिस्र ने भी इस गेहूं को लेने से इंकार कर दिया है।

तुर्की के गेहूं वापस लौटाने पर खाद्य सचिव सुधांशु पांडेय ने गुरुवार के दिन कहा कि यहां से गेहूं की खेप भेजने से पहले उन्होंने सभी प्रकार की जरूरी प्रक्रियाएं पूरी कर ली थी। उनका यह भी कहना है कि तुर्की के अधिकारियों से गेहूं की खेप लेने से इंकार करने पर अभी तक कोई बात नहीं हुई।

भारत सरकार का कहना है कि इस बात की पुरी पुष्टि की जाएगी और मिस्र को गेहूं का निर्यात करने के लिए कस्टम क्लीयरेंस (Customs Clearance) मिलने का इंतजार किया जाएगा।

.