• निफ्टी आज 77.30 अंक घटकर 18,623.75 पर पहुंचा
  • सेंसेक्स आज 261.13 अंक घटकर 62,573.47 पर पहुंचा
  • Exit Poll ने दिल्ली में बीजेपी के लिए बजाई खतरे की घंटी
  • रूस से क्रूड खरीद पर कोई सीख स्वीकार नहीं, जर्मनी के विदेश मंत्री के समक्ष जयशंकर की दो टूक

Jag Khabar

Khabar Har Pal Kee

मेघालय

गर्मियों में घूमने के लिए सर्वोत्तम है, मेघालय की ये खास जगहें (Special places of Meghalaya)

Best Places to Visit in Summer, These Special Places of Meghalaya

मेघालय, भारत देश के उत्तर-पूर्व की पहाड़ियों में स्थित एक बहुत ही खूबसूरत राज्य है। इस राज्य में पहाड़ियों की सुंदर, लंबी, विशालतम और अद्भुत श्रृंखलाएं है। (Special places of Meghalaya) भारत के ब्रिटिश शासन के दौरान, ब्रिटिश शाही अधिकारियों ने इसे “पूर्व का स्कॉटलैंड” नाम दिया था।

मेघालय पहले असम राज्य का हिस्सा हुआ करता था, जिसे 21 जनवरी 1972 को विभाजित कर दिया गया और मेघालय भारत के नक्शे पर एक खुशहाल राज्य के रूप में उभरा। मेघालय की राजधानी एक खुबसूरत शहर शिलांग है, जोकि अपनी सुंदर और मनोरम घाटियों के लिए बहुत ही प्रसिद्ध है।

शिलांग (Shillong)

शिलांग, भारत के पूर्वोत्तर में मेघालय में स्थित एक पर्वतीय स्थल एवं मेघालय की राजधानी है। इस शहर को बादल का निवास से भी संबोधित किया जाता है। शिलांग ज्यादातर अपने रसात्मक, सुरम्य स्थलों और परंपराओं के लिए बहुत प्रसिद्ध है। शिलांग शहर मेघालय का प्रवेश द्वार भी है।

शिलांग शहर समुद्र तल से लगभग 1500 मीटर की ऊंचाई पर बसा हुआ है। यह शहर अनूठी संस्कृति और प्राकृतिक विरासत का एक आदर्श मिश्रण है, क्योंकि यहाँ पर बहुत खूबसूरत वातावरण, शांत झीलें, विशाल बादलों के आसमान, हरी भरी घाटियां, मनोहारी मैदान, परंपरागत संस्कृति भव्य पर्वत श्रृंखला इत्यादि को सबसे ज्यादा पसंद किया है।

शिलांग शहर में अनेकों लोकप्रिय पर्यटन स्थल है, जिनमें उमियम झील, पुलिस बाजार, एलीफेंट फॉल्स, शिलांग पीक, वार्डस झील, डॉन बोस्को म्यूजियम इत्यादि यहां के प्रमुख आकर्षण है।

चेरापूंजी (Cherrapunji‎)

चेरापूंजी, भारत के मेघालय राज्य के पूर्व खासी पर्वतमाला (गारो-खासी पर्वत शृंखला) में स्थित प्राकृतिक सुंदरता और शांत वातावरण से सुसर्जित एक नगर है। यह दुनिया भर में न केवल भारी वर्षा के लिए ही नहीं बल्कि बहुत लोकप्रिय जीवित मूल (Living Root) पुलों के लिए भी बहुत प्रसिद्ध है। यह शहर उत्तर पूर्व में, मॉकडोक डिम्पेप वैली व्यू पॉइंट, हरे-भरे घाटियों को नज़रअंदाज़ करता है। चेरापूंजी के आसपास की दक्षिणी खासी और जयंतिया पहाड़ियाँ नम और गर्म रहती हैं और इन पहाड़ियों पर भारतीय रबर के पेड़ की एक प्रजाति पाई जाती है।

यह शिलांग से करीब-करीब 56 किलोमीटर दूर पहाड़ों की ऊंचाई पर स्थित है। चेरापूंजी को सोहरा नाम से भी सम्बोधित किया जाता है और चेरापूंजी की चट्टानें बांग्लादेश के मैदानी विस्तारो के नयनरम्य दृश्य प्रस्तुत करती हैं। यह स्थल नोहकलिकाई जलप्रपात, डबल डेकर लिविंग रूट ब्रिज, और मवसमाई गुफा के लिए प्रसिद्ध है।

मौसिनराम (Māwsynrām)

मासिनराम मेघालय में स्थित वह नगर है, जिसका नाम गिनीज़ बुक ऑफ़ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स (Guinness Book of World Records) में दुनिया में सबसे ज़्यादा नमी वाले जगह के तौर पर दर्ज है। यह अपनी प्राकृतिक सुन्दरता और अत्यधिक वर्षा के कारण विश्व विख्यात है। मेघालय राज्य के चेरापूंजी और मासिनराम में सबसे अधिक वर्षा होती है।

मासिनराम शिलांग से 65 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। बताया जाता है कि यहां बंगाल की खाड़ी की वजह से काफी ज़्यादा नमी है और 1491 मीटर की ऊंचाई वाले खासी पहाड़ियों की कारण यह नमी संघनित क्षेत्र है।

जीवित जड़ सेतु (Living Root Bridge)

मेघालय राज्य में बहुत से अद्भुत सेतु (Bridge) उपस्थित है, जो जीवित जड़ सेतु के नाम से सुप्रसिद्ध है। ये अद्भुत सेतु मेघालय के दक्षिणी भाग में स्थानीय जनजाति के लोगों द्वारा जीवित वृक्षों की जड़ों से बनाए गए है तथा ये मेघालय के कई क्षेत्रों में मौजूद है।

यहां पर रहने वाले लोगो का कहना है कि रबड़ ट्री की मजबूत जड़ें बढ़ कर गांव में लटकती रहती थी, जिनके कारण लोगों को बहुत परेशानी होती थी। ऐसे में लोगों ने इन जड़ों को ठीक करते हुए इनको पुल का आकार दे दिया परन्तु किसी ने सोचा भी नहीं था कि करीब 15 साल बाद यह पुल लोगों का वजन झेलने वाला बन जाएगा। यह पुल लगभग 300 से 400 साल पुराना है।

दाऊकी या उमंगोट नदी (Dawki or Umngot River)

दाऊकी की झील और उमंगोट नदी देश-विदेश में बहुत ही लोकप्रिय है, उसका कारण है क्रिस्टल क्लियर पानी, जोकि बिल्कुल शीशे की तरह साफ है। कहा जाता है कि यह नदी बॉर्डर पर अपना रंग बदलती है अर्थात भारत के इस पार नीली और बांग्लादेश में हल्की नीली हो जाती है।

ज्यादातर लोग यहां बोटिंग के लिए आते है, इसकी खास वजह यही है कि वे नाव के ऊपर से पर्यटन अपनी आंखों से नदी के अंदर की दुनिया देख सकें, जोकि बहुत ही सुंदर और मनमोहक है।

नोंगपो (Nongpoh)

नोंगपो, भारत के मेघालय राज्य के री-भोई जिले का प्रशासनिक केंद्र है और पूर्वी खासी हिल्स के उत्तर में स्थित एक छोटा शहर है, जोकि अपने हरे-भरे सुंदर वृक्ष, शांत वातावरण और सुखद जलवायु के लिए प्रसिद्ध है इसलिए यह मेघालय की मशहूर जगहों में से एक है। यहां के बाजार में पूरे दिन भीड़ उमड़ी रहती है क्योंकि यहां विभिन्न प्रकार के खासी व्यंजन बहुत ही सस्ते दामों पर मिलते है।

लेटलम कैनियन (Laitlum Canyon)

भारत के मेघालय राज्य के उत्तरी-पूर्वी इलाके में लेटलम कैनियन बहुत ही सुंदर और लोकप्रिय जगह है। यहां से सूर्योदय और सूर्यास्त का दृश्य देखना भी बहुत ही आश्चर्यजनक और सुंदर नजर आता है। यह जगह खासकर ट्रैकिंग के लिए मशहूर है। लेटलम कैनियन मेघालय के पूरे उत्तर पूर्व में सबसे प्रसिद्ध ट्रेक में से एक है।

लेटलम कैनियन ट्रेक को केवल 4-5 घंटे में पूरा किया जा सकता है, तभी पर्यटक यहां पर ट्रेकिंग करना काफी पसंद करते हैं। यह ट्रेक भले ही छोटा है परन्तु यह कठिन इलाके और लैंडस्केप के कारण काफी कठिन ट्रेक है।

.

Continue in...