• निफ्टी आज 81.85 अंक बढ़कर 17,803.35 पर पहुंचा
  • सेंसेक्स आज 253.99 अंक बढ़कर 60,549.39 पर पहुंचा
  • यमुनानगर के महावीर चौक स्थित पीएनबी बाहर भगवानगढ़ के किसानों ने लगाया टेंट, खाते से काटे रूपये वापस नहीं करने तक बैंक पर लगाएंगे ताला
  • यमुनानगर में कई जगहों पर सरकारी डिपोमे आटा बांटने वाली मशीन का नेटवर्क दे रहा धोखा, लोगों को हो रही परेशानी
  • यमुनानगर के मंडेबरी में तीन विवाह के बाद महिला ने बिना तलाक दिए रचाई चौथी शादी, थाने में मामला दर्ज
  • तुर्की-सीरिया में मरने वालों तादात 8 हजार के हुई पार, 3 माह के बाद लगी एमरजेंसी
  • UP में सभी IAS, IPS, PCS अफसरों की छुट्टियाँ रद्द
  • शहबाज ने पाकिस्तानी अवाम पर फोड़ा 180 अरब का टैक्स बम
  • राहुल गांधी और लोकसभा अध्यक्ष बिरला के बीच सदन में हुई बहस और वो भी माइक बंद करने को लेकर

Jag Khabar

Khabar Har Pal Kee

कपड़ा उद्योग

अगर नहीं थमी यूक्रेन में जंग, तो पानीपत (Panipat) के कपड़ा उद्योग पर पड़ेगा बुरा असर

यूक्रेन और रूस के बीच चल रही जंग का बुरा असर भारत पर भी पड़ सकता है। इससे देश के हथकरघा और कपड़ा उद्योग हब पानीपत (Panipat) को भारी नुकसान हो सकता है। रूस और यूक्रेन के बीच इस युद्ध ने यूरोपीय देशों में आयात और निर्यात को काफी प्रभावित किया है। उद्योगपतियों (Industrialists) का मानना है कि युद्ध शुरू होने के तुरंत बात ही भारत और विदेशों में हथकरघा (Handloom) की मांग में गिरावट आ गई है।

Best Men Gym Sports Vest

पानीपत में उद्योगों के मालिकों ने कहा है, कि उनके पास रूस और अन्य कई यूरोपीय देशों से 4400 से 4600 करोड़ रुपए के लगभग के ऑर्डर हैं। यदि अगले कुछ दिनों तक लड़ाई जारी रहती है, तो उसका बुरा असर उनके व्यापार पर पड़ेगा।

बढ़ती कीमतें

पानीपत के केमिकल एंड डाईज ट्रेडर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष (संजीव मनचंदा) ने कहा कि युद्ध का असर आयात पर पहले से ही पड़ चुका है है, क्योंकि जर्मनी से आयात होने वाले कच्चे माल की कीमतों में पहले से ही 10% से 35% की वृद्धि हो चुकी है।

Best T-shirt for Men

संजीव मनचंदा ने कहा कि युद्ध के लंबे समय तक चलने से कीमतें और बढ़ सकती है। संजीव मनचंदा ने सरकार से आयात शुल्क और शिपमेंट शुल्क (Shipment Charges) में कुछ राहत देने की मांग की है। पानीपत इंडस्ट्रियल एसोसिएशन (Panipat Industrial Association) के अध्यक्ष (प्रीतम सिंह सचदेवा) ने कहा कि हम युद्धे के इस साइकोलॉजिकल प्रभाव को देख सकते हैं।

युद्ध का सबसे ज्यादा बुरा असर कच्चे तेल पर पड़ेगा जिससे परिवहन और व्यापार प्रभावित होंगे।

.