• राजस्थान की रैली दौरान पीएम मोदी ने लाउडस्पीकर नियमों का किया पालन
  • रूस के खिलाफ UNSC में अमेरिका लाया प्रस्ताव
  • मल्लिकार्जुन खड़गे कर्नाटक से दूसरे कांग्रेस अध्यक्ष हो जायेंगे, अगर इस बार जीत हासिल करले
  • 5G सेवा का आज होगा शुभारम्भ, पीएम मोदी करेंगे शुरुआत

Jag Khabar

Khabar Har Pal Kee

हथियार

अमेरिका ने किया ऐलान – यूक्रेन को देगा हथियार

America announced – will give weapons to Ukraine

रूस और यूक्रेन के बीच चल रहे युद्ध का आज 20वां दिन है और रूस के सेनिकों ने कीव के साथ-साथ यूक्रेन के अन्य क्षेत्रों में भी हमलें और अधिक तेज कर दिए है। अभी हाल ही में, यूक्रेन और रूस बीच वीडियो कॉल के जरिए बात हुई थी। वहीं, अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडेन (Joe Biden) ने यह ऐलान किया कि अमेरिका यूक्रेन को रूस से लड़ने के लिए हथियार भी देगी और यूक्रेन के शरणार्थियो को अमेरिका में अनुमति भी प्रदान करेंगी। जो बाइडेन ने यह भी कहा कि अमेरिका यूक्रेन में पैसा, भोजन तथा अन्य मानवीय सहायता भी उपलब्ध कराएगा।

डोनबास में हो रही है भारी लड़ाई

यूक्रेन की सेना मास्को समर्थित पूर्वी क्षेत्र डोनबास (Donbass) में रूसी सैनिकों के साथ भारी युद्ध चल रहा है। इतना ही नहीं, 100 रूसी सैनिक मारे जा चुके है और छह बड़े वाहन नष्ट किए चुके हैं। रूस ने दोनेत्सक ओब्लास्ट में यूक्रेनी सुरक्षा घेरे को तोड़ने की चेष्टा की गई है, परन्तु कोई लाभ नहीं हो पाया। देश के रक्षा मंत्रालय ने सोमवार को इसकी खबर दी है।

1.9 लाख रूसी सैनिक किए तैनात – यूक्रेन की सीमा पर

वर्तमान रूस और यूक्रेन एक-दूसरे आमने-सामने हैं तथा ऐसी आशंका जताई जा रही है कि दोनों देशों के बीच कभी भी युद्ध छिड़ सकता है। दुनिया भर के नेता इस संघर्ष का हल खोजने की कोशिश कर रहे हैं, लेकिन पूर्व और पश्चिम के बीच संदेह बढ़ता जा रहा है। नाटो सहयोगी देशों ने रूस के इस दावे को खारिज कर दिया है कि वह सीमा से सैनिकों को हटा रहा है। ऐसा कहा जा रहा है कि रूस ने यूक्रेन से लगती सीमा पर लगभग 1,50,000 सैनिकों को नियुक्त कर रखा है।

रूस इन सैनिकों के साथ क्या कर रहा है इसको लेकर पश्चिमी देशों में चिंता बढ़ गई है। अंदेशा यह लगाया जा रहा है कि रूस के कुल जमीनी सैनिकों के 60 प्रतिशत सैनिक यूक्रेन सीमा पर तैनात हैं।

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में अमेरिकी विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकेन (Antony Blinken) ने अमेरिकी खुफिया एजेंसियों के निष्कर्ष की खबर दी, जिस पर अमेरिका और ब्रिटेन ने उम्मीद जताई कि वे हमले की किसी भी कोशिश का खुलासा अवश्य करेंगे। हालांकि, अमेरिका ने अपने दावों का समर्थन करने के लिए अधिक जानकारी देने से मना कर दिया है।

.

Continue in...