• निफ्टी आज 77.30 अंक घटकर 18,623.75 पर पहुंचा
  • सेंसेक्स आज 261.13 अंक घटकर 62,573.47 पर पहुंचा
  • Exit Poll ने दिल्ली में बीजेपी के लिए बजाई खतरे की घंटी
  • रूस से क्रूड खरीद पर कोई सीख स्वीकार नहीं, जर्मनी के विदेश मंत्री के समक्ष जयशंकर की दो टूक

Jag Khabar

Khabar Har Pal Kee

लेह-लद्दाख

लेह लद्दाख (Leh Ladakh) : धरती पर बसा बेजोड़ सौंदर्य और असीमित रोमांच का स्वर्ग

Leh Ladakh: A Paradise of Unmatched Beauty and Unlimited Adventure on Earth

लेह लद्दाख (Leh Ladakh), भारत की ऐसी जगहों में से है, जहां जाकर पर्यटक वहीं के दीवाने हो जाते है। लेह लद्दाख एक ऊबड़-खाबड़ इलाकों की सुंदरता से परिपूर्ण और शांतिमय पर्यटन स्थल है। लेह, अंतरराष्ट्रीय पर्यटन मानचित्र पर भी उपलब्ध है और देश-विदेश से पर्यटकों की एक बड़ी आमद को आकर्षित करता है। लद्दाख, विश्व की दो सबसे बड़ी पर्वत श्रृंखलाओं, महान हिमालय और काराकोरम से घिरा हुआ है, जोकि सम्पूर्ण विश्व में अपनी सुंदरता के लिए मशहूर है।

पांगोंग त्सो या पांगोंग झील (Pangong Tso)

पांगोंग झील (Pangong Lake), विश्व की सबसे ऊंची खारे पानी की झीलों में से एक है। हिमनद क्षरण के द्वारा झील के बेसिन का निर्माण हुआ और यह शुरू में एक मीठे पानी की झील थी। समय के साथ खनिज जमा के निर्माण के कारण यह खारा हो गया।

इस झील की वास्तविक गहराई के बारे में कोई नहीं जानता परन्तु अनुमान लगभग 300 फीट आस-पास का लगाया जाता है। इसकी खास बात यह भी है कि नमकीन होने के बावजूद यह सर्दियों में जम जाती है तथा गर्मियों के मौसम में आसपास की चोटियों से पिघलने वाली बर्फ इसकी जल आपूर्ति दोबारा भर देती है।

चुंबकीय पहाड़ी (Magnetic Hill)

चुंबकीय पहाड़ी (Magnetic Hill), लद्दाख में सबसे महत्वपूर्ण पर्यटन स्थल है, क्योकि यह पहाड़ी एक ऐसी साइक्लोप्स पहाड़ी है, जिसे मिस्ट्री हिल, ग्रेविटी हिल या ग्रेविटी रोड के नाम से भी जाना जाता है। यह स्थान अपनी अविश्वसनीय जलवायु और आकर्षक प्राकृतिक सुंदरता के लिए दुनियाभर प्रसिद्ध है।

इन पहाड़ियों की सबसे खास बात यह है कि यहां आने वाले वाहन कार इत्यादि नीचे जाने के बजाय ऊपर की ओर खींचे चले जाते है। कहा जाता है कि इन पहाड़ियों में एक मजबूत चुंबकीय शक्ति है, जो उन वाहनों को खींचती है। इतना ही नहीं, विमानों को भी बचने के लिए अपने मार्ग को बदलना पड़ता है।

शांति स्तूप (Shanti Stupa)

लेह में शांति स्तूप (Shanti Stupa) एक शानदार सफेद गुंबद वाला बौद्ध स्मारक है। यह स्थान बौद्ध धर्म के अनुयायियों के लिए बहुत महत्व रखता है। यह एक ऐसा स्थल है, जो दुनिया भर के साहसिक उत्साही लोगों को अपनी ओर आकर्षित करता है। कहा जाता है कि शांति स्तूप पूर्णिमा की रात के दौरान असाधारण रूप से सुंदर दिखता है, जब यह प्राकृतिक रूप से चांदनी से प्रकाशित होता है।

यह बौद्ध स्मारक समुद्र तल से 11,841 फीट की ऊंचाई पर स्थित है, जोकि एक खड़ी पहाड़ी है। यह बौद्धों के लिए एक धार्मिक स्थान है क्योंकि इसमें 14 वें दलाई लामा द्वारा समर्पित बुद्ध के अवशेष हैं इसलिए उनकी यहां पर खास आस्था है।

लामायुरु मठ (Lamayuru Monastery)

लामायुरु मठ (Lamayuru Monastery), लद्दाख के निचले हिस्से में स्थित ड्रिकुंग काग्यू (Drikung Kagyu) परंपरा के मुख्य मठों में से एक है। इस स्थान को मून लैंड (Moon Land) के नाम से भी सम्बोधित किया जाता है। यह समुद्र तल से लगभग 11520 फीट ऊपर, लामायुरु मठ सबसे प्रशंसनीय तिब्बती बौद्ध मठों में से एक है, जो लामायोरो, लेह में स्थित है।

लामायुरु मठ, पाँच विशाल इमारतों का संग्रह था, जिनमें से अब केवल एक ही बचा है लेकिन फिर भी, यह सबसे बड़ा मठ बना हुआ है। किंवदंतियों के अनुसार, यह क्षेत्र एक बार एक झील के नीचे था, जिसे एक पवित्र व्यक्ति द्वारा सूखने के लिए बनाया गया था। मठ के मुख्य गर्भगृह में एक गुफा है, जहाँ महासिद्ध नरोपा (Mahasiddha Naropa) ने वर्षों तक तपस्या की थी। मठ की उपस्थिति के कारण पूरे क्षेत्र को पवित्र माना जाता है।

लेह पैलेस (Leh Palace)

लेह पैलेस (Leh Palace) एक पूर्व शाही महल है, जो लेह शहर में स्थित बहुत ही प्रसिद्ध पैलेस है। यह दुनिया की सबसे ऊंची इमारतों में से एक है। इस 9 मंजिला शाही भवन का ऊपरी मंजिलों का उपयोग शाही आवासीय उद्देश्यों के लिए किया जाता था जबकि निचली मंजिलों का उपयोग स्टोररूम और अस्तबल के रूप में किया जाता था लेकिन यह आज भी लद्दाख की विरासत के हिस्से के रूप में संरक्षित है।

लेह पैलेस को लचेन पालखर (Lachen Palkhar) के नाम से भी जाना जाता है। इस पैलेस के अंदर एक संग्रहालय है, जो महान कलाकृतियों का संकलन करता है तथा इस क्षेत्र की संस्कृति और इतिहास पर प्रकाश डालता हैं। यह तिब्बती वास्तुकला के मध्ययुगीन काल की एक बेहतरीन कलाकृति को दर्शाता है। बताया जाता है कि लद्दाख में लेह पैलेस का निर्माण शाही परिवार के निवास को ध्यान में रखते हुए किया गया था।

खर्दुंग ला (Khardung La)

खर्दुंग ला (Khardung La), लद्दाख के जिले लेह में स्थित एक बहुत ही मशहूर पहाड़ी दर्रा है। यह मोटरसाइकिल (Motorcycle) के साथ लद्दाख के पहाड़ों पर चढ़ना और दुनिया की चोटी से गुजरना इत्यादि के लिए विश्व भर में प्रसिद्ध है। यह श्योक और नुब्रा घाटी का प्रवेश द्वार होने के साथ-साथ रणनीतिक रूप से देश के लिए एक बहुत ही महत्वपूर्ण स्थल है और इस दर्रे के दोनों किनारों पर विशाल पहाड़ स्थित हैं, जोकि इसकी सुंदरता में चार चाँद लगा देते है।

खर्दुंग ला दर्रा समुद्र तल से लगभग 5359 मीटर की ऊंचाई के साथ दुनिया की सबसे ऊंची मोटर योग्य सड़कों में से एक होने के लिए विश्वविख्यात है। खर्दुंग ला पर चढ़ना अपने आप में एक रोमांच है। यहां सड़क की स्थिति हर मौसम में बदलती रहती है। यहां सवारी करने के लिए विशेष परमिट की आवश्यकता होती है और भारी बर्फबारी के कारण अक्टूबर से मई तक यहां का सड़क मार्ग बंद रहता है।

लेह मार्केट (Leh Market)

लद्दाख का लेह मार्केट (Leh Market) बहुत व्यस्त, रंगीन जगहों में से एक होने साथ-साथ अपनी सुंदरता के लिए पूरी दुनिया पर अपनी छाप छोड़ता है। यह यहां की सबसे आकर्षक और ऊर्जावान जगहों में से एक है। यहाँ पर आपको हस्तशिल्प, मसाले, कपड़े, कलाकृतियां, भोजन और स्मृति चिन्ह जैसी चीजों के लिए समर्पित वर्गों के साथ बाजार की सुंदर छोटी गलियां और उपनगर इत्यादि देखने को मिलेंगे।

यह बाजार ज्यादातर ऊनी वस्त्रों के लिए प्रसिद्ध है क्योकि इस इलाके की जलवायु काफी ठंडी है और यहां लोगों में हाथ से बुने हुए ऊनी कपड़े बनाने की संस्कृति है, जोकि वर्तमान में काफी लोकप्रिय हो गई है।

.

Continue in...